मीन राशि के लिए आयरन फ़ॉस्फेट

$25,00

SKU: 748367096037 Category:

Description

आयरन फॉस्फेट, 100ग्राम पैकेट –मीन राशि के लिए

100% पेड़ों के अर्क से बना|

आपके 3 मिनरल जो राशि के जातक के लिए आवश्यक हैं वर्ष के उन बचे हुए महीनों को दिखाते हैं जब माँ गर्भवती नहीं थी|

 

सम्पूरक आहार

तैयारी और सप्लीमेंट का सेवन

1 चम्मच (5ग्राम) पाउडर को एक गिलास गर्म पानी में घोलें| रोज एक बार, खाने के बाद सेवन करें| सप्लीमेंट के सेवन के दौरान, प्रतिदिन कम से कम 1 लीटर पानी पिएँ|

इससे पहले उपयोग कर लें:

उत्पादन तिथि से 24 माह तक (तारीख और बैच नंबर पैकेट पर छपे हैं)|
कमरे के सामान्य तापमान (15-25°C) में, सूखे और अँधेरे स्थान पर, बच्चों की पहुँच से दूर रखें|

चेतावनी:

सम्पूरक आहार या डाइटरी सप्लीमेंट मुख्य आहार और स्वस्थ जीवनशैली की जगह नहीं ले सकते हैं| दैनिक अनुशंसित खुराक से ज्यादा का सेवन न करें| यदि आपको उत्पाद में मौजूद किसी तत्व से एलर्जी है तो इसका सेवन न करें| गर्भावस्था और दूध पिलाने के दौरान इन दवाओं का प्रयोग न करें| इस उत्पाद में खनिज लवण हैं जो शारीरिक क्रियाओं में सहायता देते हैं| वे कोशिकीय स्तर पर काम करते हैं और कोशिकाओं को क्रियाशील रखते हैं। ये लवण चयापचय प्रक्रियाओं में भाग लेते हैं और दैनिक आहार में निहित पोषक तत्वों के अवशोषण में सहयोग देते हैं।

आयरन फॉस्फेट की कमी से होने वाली बीमारियों प्रभावित होने वाले शरीर के महत्वपूर्ण अंग: लाल रक्त कोशिकाएँ, पंजे, रक्त, ऑक्सीज़न वितरण

दाहिनी पार्ष्णिका (एड़ी की हड्डी), बाईं पार्ष्णिका, दाएँ पंजे की नसें, बाएँ पंजे की नसें, दाहिनी जघनास्थि,
बाईं जघनास्थि, दाहिना गुल्फ (टखना), बायाँ गुल्फ, दाएँ पैर के पंजे की हड्डी, बाएँ पैर के पंजे की हड्डी, पैर
की लसीका वाहिकाएँ (लिम्फ़ वेसल), दाहिने तलवे की धमनी, बाएँ तलवे की धमनी, त्वचा के नीचे
दाहिनी नस, त्वचा के नीचे बाईं नस, दाएँ पैर के क्रॉसरूपी स्नायु, बाएँ पैर के क्रॉसरूपी स्नायु, अंगुली की
मांसपेशियों का प्रसारक, बाईं अंगुली की मांसपेशियों का प्रसारक, दाहिनी बहिर्जङ्घिका (फिबुला) की
मांसपेशियाँ, बाईं बहिर्जङ्घिका (फिबुला) की मांसपेशियाँ, दाएँ पैर का स्नायुजाल, बाएँ पैर का स्नायुजाल,
अंतर्बहिर्जङ्घिका का बाहरी दाहिना जोड़, अंतर्बहिर्जङ्घिका का बाहरी दाहिना जोड़, तलवे की नस, बाएँ
पैर की अंगुलियों की हड्डी, बाएँ पैर की अंगुलियों की हड्डी, दाहिने दाहिने पैर के नाखून, बाएँ पैर के नाखून 

आयरन फॉस्फेट रक्त कोशिकाओं को लाल रंग देता है, जो ऑक्सीजन को शरीर के सभी भागों में पहुंचाती हैं और इस प्रकार हमें जीवन शक्ति प्रदान करती हैं।

रक्त में इसका स्तर समुचित न रहने पर, स्वस्थ रहना असंभव है। इस लवण की कमी होने पर, शरीर को
उपलब्ध रक्त कणिकाओं के साथ सभी अंगों में रक्त पहुंचाने बहुत मशक्कत करनी पड़ती है जिसके
परिणामस्वरूप रक्त चाप बढ़ जाता है।

ज्वर आना उच्च रक्तचाप का मुख्य लक्षण हो सकता है। याद रखिए कि ज्वर किसी रोग का कारण नहीं होता बल्कि किसी रोग का लक्षण होता है। ज्वर, अन्य रोगों के साथ-साथ आयरन की कमी (और उसके कारण ऑक्सीज़न की कमी) के परिणामस्वरूप भी हो सकता है।

अल्पावधि में यह अन्य कोशिका लवणों की निरंतरता को बाधित करता है। पोटेशियम क्लोराइड की कमी
आमतौर पर आयरन की कमी, यदि इसका तुरंत इलाज न किया जाए तो, के कारण द्वितीयक होती है।

आयरन की कमी होने पर, शरीर महत्वपूर्ण अंगों (पेट और छाती में स्थित) में रक्त की आपूर्ति करने पर
ध्यान देता है, इसलिए रक्त की कमी से पैदा होने वाले लक्षण शरीर के अधिक “बाह्य” अंगों में लक्षित हो
सकते हैं।

अधिक छोटी रक्त वाहिकाओं में रक्त की कमी के कारण त्वचा के छिद्र बंद हो जाते हैं, और इस तरह
अपशिष्ट पदार्थ अंदरूनी अंगों में पहुँच जाता है। अजैविक लवण की कमी के कारण रक्त से निकाले गए अन्य अपशिष्ट पदार्थ के साथ में अपशिष्ट का संचय होने के कारण सर्दी, जुकाम और न्यूमोनिया हो सकते हैं।

ऐसी सभी बीमारियों के लिए, भले ही उनके नाम कुछ भी हों, फेरम फॉस्फोरिकम प्राथमिक औषधि होगी।
यह मानव शरीर की सभी कोशिकाओं में मौजूद होता है और हीमोग्लोबिन के एक अनिवार्य घटक से
बना होता है।

लवण प्रतिरक्षा प्रणाली को मज़बूत करता है, कमजोर शरीर को मजबूत बनाता है, बार-बार होने वाली
बीमारियों की प्रवृत्ति, त्वचा संबंधी समस्याओं, स्मृति विलोप और एकाग्रता की कमी को ठीक करता है|

इसका उपयोग ज्वर, टेंडनाइटिस, गठिया सहित हड्डियों के रोगों में होने वाली शोथ
प्रक्रियाओं को ठीक करने में किया जाता है। फेरम फॉस्फोरिकम लोहे के फॉस्फेट से बनाया
जाता है।

Additional information

Weight 0.1 kg