पोटेशियम फ़ॉस्फेट मेष राशि के लिए

$25,00

Out of stock

SKU: 748367095924 Category:

Description

पोटेशियम फॉस्फेट, 100ग्राम पैकेट – मेष राशि के लिए

100% पेड़ों के अर्क से बना|

आपके 3 मिनरल जो राशि के जातक के लिए आवश्यक हैं वर्ष के उन बचे हुए महीनों को दिखाते हैं जब माँ गर्भवती नहीं थी|

 

सम्पूरक आहार

तैयारी और सप्लीमेंट का सेवन

1 चम्मच (5ग्राम) पाउडर को एक गिलास गर्म पानी में घोलें| रोज एक बार, खाने के बाद सेवन करें| सप्लीमेंट के सेवन के दौरान, प्रतिदिन कम से कम 1 लीटर पानी पिएँ|

इससे पहले उपयोग कर लें:

उत्पादन तिथि से 24 माह तक (तारीख और बैच नंबर पैकेट पर छपे हैं)|
कमरे के सामान्य तापमान (15-25°C) में, सूखे और अँधेरे स्थान पर, बच्चों की पहुँच से दूर रखें|

चेतावनी:

सम्पूरक आहार या डाइटरी सप्लीमेंट मुख्य आहार और स्वस्थ जीवनशैली की जगह नहीं ले सकते हैं| दैनिक अनुशंसित खुराक से ज्यादा का सेवन न करें| यदि आपको उत्पाद में मौजूद किसी तत्व से एलर्जी है तो इसका सेवन न करें| गर्भावस्था और दूध पिलाने के दौरान इन दवाओं का प्रयोग न करें| इस उत्पाद में खनिज लवण हैं जो शारीरिक क्रियाओं में सहायता देते हैं| वे कोशिकीय स्तर पर काम करते हैं और कोशिकाओं को क्रियाशील रखते हैं। ये लवण चयापचय प्रक्रियाओं में भाग लेते हैं और दैनिक आहार में निहित पोषक तत्वों के अवशोषण में सहयोग देते हैं।

पोटेशियम फॉस्फेट की कमी से होने वाली बीमारियों प्रभावित होने वाले शरीर के महत्वपूर्ण अंग: मस्तिष्क और रीढ़ की हड्डी, संवेदी तंत्रिकाएं, चेहरे से लेकर निचले जबड़े, दांत, मांसपेशियाँ, रक्त कोशिकाएं और प्लाज्मा।

बीमारियाँ: मस्तिष्क का मध्य खंड(मिडिल लोब), अनुमष्तिष्क या सेरिबैलम, पीनियल ग्रंथि, आँखें, आँखों के सॉकेट, कान, चीकबोन, आँखों के लेंस, नेत्रगोलक, ऑप्टिक तंत्रिका, जीभ, मस्तिष्क के निलय, मस्तिष्क का ललाट खंड(फ्रंटल लोब), मस्तिष्क का पार्श्व खंड(लेटरल लोब), स्टेम, रीढ़, नलिका मेरु तंत्रिका, अनुकंपी प्रणाली से जुड़ी तंत्रिका, मस्तिष्क का शरीर – मध्य – ललाट से संबंध, पश्चकपाल (एक्सिपिटिल) अस्थि का आधार, आंख की मांसपेशियाँ, गाल की मांसपेशियाँ, मेस्टिकेटरी या चबाने वाली मांसपेशियाँ, जाइगोमैटिक या गंड-मांसपेशी, दूसरी उरोजत्रुक कर्णमूलिका (स्टर्नोक्लेडोमैस्टॉइड) मांसपेशी , खोपड़ी या कपाल, करोटी तोरण (वॉल्ट) – ललाट अस्थि, करोटी तोरण या वॉल्ट- पर्श्विका (पेराइटल) और पश्चकपाल अस्थि, श्रवण नलिका, कर्णपूर्व (पैरोटिड) ग्रंथि।

जब किसी दवा में प्रकृति और पोटेशियम फॉस्फेट के काम करने के तरीके की पूरी समझ शामिल होती है तो, तंत्रिका संबंधी रोगों का उपचार करना ज्यादा प्रभावशाली हो जाता है|

किसी भी कारणवश – यदि तांत्रिक तरल (नर्वस फ्लूड) की कमी के लक्षण नजर आते हैं तो – इसके उपचार में पोटेशियम फॉस्फेट बहुत सहायक होता हैं, क्योंकि और कोई भी चीज इतने प्रभावी तरीके से इस कमी को दूर नहीं कर पाएगी|

मस्तिष्क में ग्रे पदार्थ के बहुत जल्दी क्षय होने के परिणामस्वरूप होने वाले रोगों को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता है।

चाहे आप एक जरुरत से ज्यादा काम करने वाले व्यवसायी हों या पूरे दिन घर-गृहस्थी और बच्चे की देखभाल करने वाली महिला – पोटेशियम फॉस्फेट लेने के बाद आप जल्द ही अपना संतुलन वापस पा लेंगे|

पोटेशियम लवण तांत्रिक तरल का मुख्य तत्व होता है और इसकी कमी से जुड़े लक्षणों को स्पष्ट रूप से बताया गया है|

सप्लीमेंट लेने के दौरान, छूटे हुए पोषक तत्वों को आणविक (मॉलिक्यूलर) रूप में बिल्कुल वैसे ही देना होता है जैसे प्रकृति ने सब्जियों, फलों और अनाजों में दिए हैं|

कमियों को पूरा करना प्रभावशाली उपचार का सर्वश्रेष्ठ तरीका है|

अधिकतर विद्वान इस बात से सहमत हैं कि पोटेशियम के बिना जीवन संभव नहीं है| इसी के रूप में जीवन की शुरुआत होती है, चूंकि पोटेशियम मस्तिष्क के ग्रे मैटर को पोषण देता है, इसलिए यह मस्तिष्क को भी पोषण देता है|

पोटेशियम फ़ॉस्फेट तैलीय रूप में शरीर के सभी भागों में विद्यमान रहता है. अस्थि मज्जा एक संतृप्त तेल या वसा है
जो अस्थियों को पोषण देती हैं और उनकी सुरक्षा करती है. इसी कारण से शरीर की प्रत्येक कोशिका एक तैलीय,

लवणीय तरल से घिरी होती हैं. पोटेशियम क्लोराइड के रूप में पोटेशियम फाइब्रिन बनाता है. यह सभी ऊतकों,
अस्थि बंधों, सभी अंगों, ग्रंथियों, त्वचा इत्यादि की संरचना का भाग होता है. 

बुद्धिमान प्रकृति माँ ने तंत्रिका से कड़ी बनाए रखने के लिए इन रेशों (फाइबर्स) में काफी मात्रा में पोटेशियम फॉस्फेट प्रदान किया है, जिससे शारीरिक प्रक्रिया को चलाने वाले आवेगों का प्रवाह सक्रिय होते हैं| सभी तरह के संयोजनों में, पोटेशियम, एक ट्रांसमीटर का काम करता है जो जीवन, या अग्नि, देता है, क्योंकि अग्नि ही जीवन है और जीवन ही प्राण है|

डॉ. केयर अपनी पुस्तक ‘द बायोकेमिक सिस्टम ऑफ़ मेडिसिन’ में लिखते हैं: “मस्तिष्क का ग्रे मैटर पूर्णतया अकार्बनिक कोशिका लवण, पोटेशियम फ़ॉस्फेट द्वारा नियंत्रित किया जाता है. यह लवण प्रोटीन के साथ संयोजित होता है और ऑक्सीजन की मौजूदगी में, यह मष्तिष्क में तंत्रिका द्रव, या ग्रे मैटर बनाता है|तांत्रिका द्रव में अन्य लवण भी होते हैं, लेकिन पोटेशियम फ़ॉस्फेट जीवन अमृत बनाने वाला मूलभूत कारक है और उसके लिए आवश्यक तत्वों को आकर्षित करता है| 

वह आगे लिखते हैं: और इसीलिए, जब आपके शरीर में किसी भी कारण से तंत्रिका द्रव की कमी के लक्षण दिखते हैं तो, पोटेशियम फॉस्फेट अकेला असरदार उपचार है, क्योंकि शायद कोई और चीज तंत्रिका द्रव की कमी को इतने अच्छे से पूरी न कर पाए| 

आयरन फॉस्फेट के अलावा, पोटेशियम फॉस्फेट भी पूरे शरीर में ऑक्सीजन ले जाने सहायता करता है|

Additional information

Weight 0.1 kg