सिंह राशि के लिए मैग्नीशियम फ़ॉस्फेट

$25,00

SKU: 748367095962 Category:

Description

मैगशियम फॉस्फेट, 100ग्राम पैकेट – सिंह राशि के लिए

100% पेड़ों के अर्क से बना|

आपके 3 मिनरल जो राशि के जातक के लिए आवश्यक हैं वर्ष के उन बचे हुए महीनों को दिखाते हैं जब माँ गर्भवती नहीं थी|

 

सम्पूरक आहार

तैयारी और सप्लीमेंट का सेवन

1 चम्मच (5ग्राम) पाउडर को एक गिलास गर्म पानी में घोलें| रोज एक बार, खाने के बाद सेवन करें| सप्लीमेंट के सेवन के दौरान, प्रतिदिन कम से कम 1 लीटर पानी पिएँ|

इससे पहले उपयोग कर लें:

उत्पादन तिथि से 24 माह तक (तारीख और बैच नंबर पैकेट पर छपे हैं)|
कमरे के सामान्य तापमान (15-25°C) में, सूखे और अँधेरे स्थान पर, बच्चों की पहुँच से दूर रखें|

चेतावनी:

सम्पूरक आहार या डाइटरी सप्लीमेंट मुख्य आहार और स्वस्थ जीवनशैली की जगह नहीं ले सकते हैं| दैनिक अनुशंसित खुराक से ज्यादा का सेवन न करें| यदि आपको उत्पाद में मौजूद किसी तत्व से एलर्जी है तो इसका सेवन न करें| गर्भावस्था और दूध पिलाने के दौरान इन दवाओं का प्रयोग न करें| इस उत्पाद में खनिज लवण हैं जो शारीरिक क्रियाओं में सहायता देते हैं| वे कोशिकीय स्तर पर काम करते हैं और कोशिकाओं को क्रियाशील रखते हैं। ये लवण चयापचय प्रक्रियाओं में भाग लेते हैं और दैनिक आहार में निहित पोषक तत्वों के अवशोषण में सहयोग देते हैं।

मैगशियम फॉस्फेट की कमी से होने वाली बीमारियों प्रभावित होने वाले शरीर के महत्वपूर्ण अंग: हृदय, ऊपरी पीठ, गुर्दे, डायाफ्राम, कार्डियक प्रणाली, तंत्रिका तंत्र।

बाएँ तरफ की कोरोनरी धमनी, महाधमनी, दाहिनी कोरोनरी धमनी, बाएँ तरफ की हृद्-शिरा धमनी, दाहिनी हृद्-शिरा धमनी, फुफ्फुसीय धमनी प्रवेश, बाएँ तरफ की कोरोनरी शिरा, द्वितीयक महाशिरा (वेना कावा), महाशिरा, ग्रीवा शिरा, अवजत्रुकी या सबक्लेवियन शिरा, रीढ़, दाहिना निलय, बायाँ निलय, दाहिना परिकोष्ठ या एट्रिअम, दाहिना अलिंद, निलय या वेंट्रिकल, वेंट्रिकुलर सेप्टम, माइट्रल वाल्व, लेफ्ट एरिकल, पैपिलरी मसल्स, पेरीकार्डियम, हार्ट मसल्स, कॉर्डे टेंडिने, एट्रियल सेप्टम, पोस्टीरियर कार्डिएक चैंबर।

 

मैग्निसियम फॉस्फेट की कमी से तंत्रिका तंतुओं और मांसपेशी के उतकों में गड़बड़ी आ सकती है; उनके कार्य करने की सही लय ख़त्म हो जाती है| ऐंठन और जकड़न होने लगती है| यह लक्षण शरीर में इस लवण की कमी को दर्शाते हैं| 

ऊँगली और गर्दन, शरीर के किसी भी अंग में अकड़न, ट्रिसमस या जबड़ों में ऐंठन, ऐंठन वाली खांसी, नाक बहना, दम घुटना, हिचकियाँ आना इस लवण की कमी के आम लक्षण हैं|

एंजाइना पेक्टोरिस एक ऐसी स्थिति है जिसमें इस लवण को उच्च मात्रा में दिया जाता है|

नसों के दर्द का कारण भी इस लवण के साथ-साथ अन्य लवणों की कमी है| हृदय और मोटर प्रणाली से जुड़ी किसी भी समस्या में मैग्नीशियम फॉस्फेट के उपयोग की आवश्यकता होती है|

किसी भी कॉम्बिनेशन(तीन में से एक या एक साथ सभी) में जब कैल्शियम की कमी होती है तो, मैग्नीशियम की भी आवश्यकता पड़ती है, क्योंकि बहुत सी चीजें यह संकेत करती हैं कि ये दोनों आपस में जुड़े हुए हैं|

मैग्नीशियम की कमी के केस में, आयरन भी दिया जाना चाहिए – उन्हें एक दूसरे की आवश्यकता होती है। 

ऐसा कोई रोग नहीं है जिसमें आयरन से फायदा न मिलता हो क्योंकि इनसे ऑक्सीजन मिलती है और इस प्रकार शरीर की सफाई और उपचार की प्रक्रिया प्रभावित होती है|

यह एक जैव रासायनिक एनाल्जेसिक और एंटीस्पास्मोडिक (यकृत और गुर्दे संबंधी दर्द, माइग्रेन, मांसपेशियों में ऐंठन, अनिद्रा, नसों का दर्द) है। मैग्नीशियम फॉस्फेट एक सप्लीमेंट है जिसका उपयोग ऐंठन वाले दर्द, संवहनी कैल्सीफिकेशन, तनाव, ऐंठन की प्रवृत्ति, पाचन समस्याओं और टीस देने वाले सिरदर्द के लिए किया जाता है। मैग्नीशियम हड्डियों, मांसपेशियों, तंत्रिका कोशिकाओं, मस्तिष्क, रीढ़ की हड्डी, लाल रक्त कोशिकाओं, यकृत और थायरॉयड ग्रंथि में पाया जाता है।  

जैव रासायनिक थेरेपी में, विभिन्न प्रकार के स्पास्टिक(ऐंठन और अकड़न) लक्षणों के उपचार में मैग्नीशियम फॉस्फेट का महत्वपूर्ण योगदान होता है| यह लवण छूटे हुए तत्वों की कमी पूरा करता है और शरीर को सामान्य स्थिति में लौटाता है| मांसपेशियों की शक्ति की कमी हृदय कोशिका के लवण, मैग्नीशियम फॉस्फेट, के अभाव का संकेत देती है, जो रक्त की पल्स देता है जिसे हृदय लयबद्ध रूप से पंप करता है|

 

 

Additional information

Weight 0.1 kg